Friday, November 28, 2014

वियाग्रा से भी ज्यादा पावरफुल हैं ये आहार!

जब भी सेक्स की इच्छा और सेक्स के स्वास्थ्य को बढ़ाने की बात आती है तो वियाग्रा की बात अवश्य होती है। इस दवा का उपयोग पुरुषों में इरेक्टल डिसफंक्शन और नपुंसकता के इलाज के लिए किया जाता है। यह प्रौढ़ पुरुषों में पाई जाने वाली एक आम समस्या है। यह दवा सेक्स हारमोंस को उत्तेजित करके इरेक्शन (उत्थान) को बढाती है। वियाग्रा के अलावा कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जो सेक्स की इच्छा को बढ़ाने में सहायक होते हैं। अपनी सेक्स की इच्छा को स्वस्थ तरीके से बढ़ाने से अधिक अच्छा और क्या होगा?
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql

Thursday, July 31, 2014

एक्सरसाइज से बना सकते हैं आप अपने सेक्स स्टेमिना को बेहतर!

अगर हमारी बॉडी अनफिट रहेगी तो हम एक सतुंष्ट सेक्स
का आंनद नहीं उठा पाएंगे। अगर आप अपने आप
को रिश्ता बनाते वक्त थका हुआ महसूस करते
हैं तो निराश ना हो।

आज आपको बताते हैं कुछ ऎसे व्यायाम के बारे में जिससे
आपकी सेहत हो जाएगी बिल्कुल तरोताजा और आप सेक्स
का भरपूर आंनद उठा सकते हैं। स्केव्ट्स करने से आपके
थाइस, प्युविक और बटोक्स मजबूत होते हैं। यह एक बहुत
ही महत्वपूर्ण व्यायाम है जो आपके पैरों की ताकत को भी बढाता है और साथ ही लोवर बैक और अपर बैक को भी मजबूत बनाता है।
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql

Saturday, July 26, 2014

आइये जानें कि सम्भोग के दौरान क्यों होता है महिलाओं के दर्द !

भारतीय समाज में लडकी की परवरिश ऎसे माहौल में होती है
कि उसके मन में संभोग को लेकर डर बैठा होता है। पहली बार के संभोग से कई तरह के मिथ जुडे हुए हैं।

लोगों का ऎसा मनोविज्ञान है कि पहले संभोग के समय में
लडकियों को काफी दर्द होता है। इस दौरान ब्लीडिंग को लेकर भी अनेक तरह की भ्रांतियां हमारे समाज में मौजूद हैं।
क्या सचमुच पहला संभोग कष्टदायक होता है?

संभोग करने की स्थिति से भी दर्द का कुछ नाता है। ऎसे कुछ
भ्रम लोगों के मन में अक्सर रहते हैं। कैसे आप इस दर्द से निजात पाकर सेक्स संबंधों का आनंद ले सकते हैं और अपने
रिश्तों को सामान्य बना सकते हैं।

आइए जानें क्यों होता है संभोग के दौरान दर्द?
इससे जुडी बातें सच हं या ये सिर्फ एक मिथ है?
इस दर्द को मेडिकल टर्म में क्या कहते हैं?
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql

Friday, July 11, 2014

एक ऐसा फल जो महिलाओं की सेक्स इच्छा को बढ़ाऐ !

महिलाओं की बेहतर सेक्स लाइफ के लिए डाइट में छोटा सा बदलाव फायदेमंद हो सकता है।
आर्काइव्स ऑफ गायनोकोलॉजी एंड ऑब्सटेट्रिक्स जर्नल में प्रकाशित शोध की मानें तो नियमित तौर पर एक या दो सेब का सेवन करने से महिलाओं में कामेच्छा बढ़ती है।
मिरर में प्रकाशित इस शोध के दौरान सेब के फायदों में यह नया फायदा खासतौर पर महिलाओं के लिए जोड़ा गया है।शोधकर्ताओं ने माना है कि सेब में पोलफिनॉल्स अधिक मात्रा में होते हैं जिससे महिलाओं के गुप्तांगों में रक्त संचार बढ़ जाता है।
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql

Tuesday, May 20, 2014

फीलगुड होता है सेक्स एक्सरसाइज से ।

सेक्स और व्यायाम दोनों ही एक दूसरे के पूरक होते हैं। सेक्स के लिए शरीर का गठिलापन तथा तराशी हुई मांसपेशियों की जरूरत नहीं होती बल्कि स्वस्थ और फिट शरीर जिसमें दृढ़ता,लचीलापन एवं स्फुर्ति होना चाहिए। जो आपको सेक्स का ज्यादा से ज्यादा आनंद लेने के काबिल बनाकर फीलगुड का एहसास कराता है।
नियमित व्यायाम आपकी मांसपेशियों को स्वस्थ रखता है, लचीलापन बनाये रखता है तथा कार्डियो वस्कुलर सिस्टम को दुरूस्त बनाये रखकर आपको अनेक वर्षों तक सेक्स का आनंद लेने लायक बनाये रखता है। कुछ लोग ये मानते हैं कि व्यायाम केवल युवा लोगों के लिए ही होता है इसलिए वे अधेड़ उम्र के पड़ाव पर पहुंचकर फिटनेस के नियमों पर ध्यान देना छोड़ देते हैं जबकि यह सत्य नहीं है। व्यायाम हर उम्र के लिए लाभकारी होता है लेकिन इसकी गति एवं तरीकों को उम्र के मुताबिक बदलना होता है क्योंकि फिट व् स्वस्थ बने रहना और सेक्स का आनंद उठाना सभी उम्र के व्यक्तियों के लिए जरूरी होता है।
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql

Monday, January 6, 2014

CHOCOLATE से बेडरूम में करे अपने पार्टनर को खुश

एक रिसर्च में यह दावा किया गया है कि एक चॉकलेट सैक्स लाइफ में भी मिठास भर सकती है। बेल्जियम में हुर्इ एक रिसर्च में पता चला है कि चॉकलेट के मूल घटक कोकोआ में शामिल एंटीऑक्सीडेंट्स रक्त प्रवाह को बेहतर बनाए रखते हैं। इसकी वजह से खून का प्रवाह शरीर के विभिन्न अंगो तक पहुंचता है और सेक्स करने की क्षमता को बढ़ाता है।
Read more: http://www.gyandarpan.com/2009/10/blog-post_16.html#ixzz2rQg0iiql